​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

लघुकथा / कहानी

लघुथा का खयाल ​

जब कभी कहानियाँ और कविताओ की याद आती है तो मै दूर अपनी यादों की पुरानी बस्ती में चला जाता हूँ, लघुथा, पुरानी बस्ती का एक अहम हिस्सा है बिना इसके पुरानी बस्ती की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। यहाँ सब कुछ अलग है , शोर-गूल से दूर यहाँ आपको हर व्यक्ति प्यार से बात करते हुए मिल जाएगा।

बचपन के दिनों की भूली-बिसरी यादों से एक कहानियों का संग्रह तैयार हुआ और उसे मैंने बहुत सोच विचार के बाद लघुथा (लघुकथा) का नाम दे दिया। लघुथा की कहानियाँ काल्पनिकता के परे है। आप ध्यान से हर एक किरदार को पढ़ना उसमे आपको आपका बिता हुआ कल दिखाई देगा।

मेरी पुरानी बस्ती में आप सभी का स्वागत है। उम्मीद करता हूँ की यहाँ बिताया हर एक पल आपकी जिंदगी में नई खुशी लेकर आएगा।

आपका प्यारा
पुरानी बस्ती का राहगीर