​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

क्या कट्टर हिंदू था, ओसामा बिन लादेन?

लक्ष्मी पूजा पर बम फोड़ता हुआ लादेन
"ओसामा बिन लादेन" नाम तो सुना ही होगा। आज ही के दिन २ मई २०११ के दिन अमेरिका की सेना ने ओसामा बिन लादेन के घर में घुसकर, उन्हें बर्बरता के साथ मार दिया। अमरीका  ने ओसामा बिन लादेन पर आतंकवादी होने का शक जताया था। लेकिन शक के बिनाह पर किसी की जान ले लेना, कहाँ की मानवता है?

ओसामा बिन लादेन को यदि अमेरिकी चश्मा उतारकर देखें तो आपको एक भोला भला इंसान मिलेगा, जिसने शांति दूत बनकर इस्लाम की सेवा का रास्ता चुना। ओसामा को बचपन से गुड्डे - गुड़ियों की शादी कराने का शौक था और इसलिए उसने अपने जीवनकाल में ५ ज्ञात और कई अज्ञात शादियाँ की।

ओसामा को हिंदू त्योहार दिवाली बहुत पसंद थी। ओसामा पर दिवाली मनाने का जूनून इस कदर सवार था कि वो बिना दिवाली के ही हर आये दिन, बम - गोले फोड़कर दिवाली का त्योहार मनाता था। ओसामा को रॉकेट उड़ाना बहुत पसंद था, इसलिए उसने अपने शौक को पूरा करने के लिए अमेरिका के कुछ विमानों को उड़ाकर, उन्ही लोगों की बिल्डिंगों को गिरा दिया। 

ओसामा ना ही सिर्फ दिवाली त्योहार पसंद करता था अपितु वो श्री राम का बहुत बड़ा भक्त था। इसलिए बुराई पर अच्छाई की जीत को मनाने के लिए साल भर में कई लोगों को मौत के घाट उतार देता था। माना जाता है कि उसने अयोध्या में राम मंदिर बनवाने का प्रण लिया था और इसलिए पाकिस्तान ने अमरीका के साथ मिलकर उसे षड्यंत्र करके मरवा दिया।

ओसामा को कच्ची इमली खाना और रात को सोते समय लोरियाँ सुनना बहुत अच्छा लगता था। 

​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

टिप्पणियाँ