​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

कैसे बनायें अंतरराष्ट्रीय फिल्म?

मशहूर फिल्म मसान के पटकथा लेखक वरुण ग्रोवर से हमने एक अंतरराष्ट्रीय फिल्म बनाने के लिए जरुरी सामग्री के बारे में पूछा। वरुण ग्रोवर ने हमें इस मुद्दे पर "हाउ टू मेक इंटरनेशनल फिल्म" का राज बताया। वरुण ग्रोवर के विचारों को हम नीचे प्रस्तुत कर रहें हैं।

१. एक अंतरराष्ट्रीय फिल्म बनाने के लिए सबसे पहले कुछ गरीब दिखने वाले अभिनेताओं की तलाश करो। अभिनेता ऐसे होने चाहिए जिन्हे यदि मनीष मल्होत्रा के डिजायनर कपड़े भी पहना दिए जाए तो वो शकल से उस कपड़े को चुराकर लाये होंगे, ऐसा लगना चाहिए। आजकल ऐसे चेहरों में नवाजुदीन सिद्द्की सबसे अच्छी चॉइस हो सकते हैं। 

२. भारत की गरीबी को उजागर करने वाला प्लॉट चुनिये। भारत में क्या - क्या हो सकता है जिसे विदेशी पसंद करेंगे ? आपको गरीबी, भुखमरी, बलात्कार जैसे मुद्दे चुनने होंगे। अब जितना पिछड़ापन देिखाएंगे, फिल्म की सफलता और तारीफ उतनी अधिक होगी। आज कल चल रहे गौ रक्षा और एंटी रोमियों दल भी फिल्म की पृष्ठभूमि को चार चाँद लगा देंगे। 

३. फिल्म का सेट गंदे नालों के बीच या फिर झोपड़पट्टी के इलाके में होना चाहिए या फिर आप नदियों का घाट चुनें, जहाँ गरीबी भारी मात्रा में दिखाई देती है। मुंबई का धारावी इलाका झोपड़पट्टी के मामले में सबसे नामचीन है। धारावी की झोपड़पट्टी देखने के लिए विदेशी दूर - दूर से आते हैं, इसलिए उन्हें इस जगह से खास प्यार भी है। 

४. फिल्म का अंत दुःखद होना चाहिए। अभिनेता मर जाना चाहिए, अभिनेत्री मर जानी चाहिए, अभिनेता के माँ - बाप को मार दो। अंत किसी भी तरह प्यार भरा या सुखद दिखा तो फिल्म के पीछे पूरी मेहनत बेकार हो जायेगी। 

५. फिल्म का संवाद थोड़ा गवरुं तरह का होना चाहिए और उसमे भरपूर मात्रा में गलियों का तड़का होना चाहिए। विदेशियों को हमारी भाषा नहीं समझती लेकिन सब टाइटल से वो समझ जाते हैं कि फिल्म में देश और समाज  दुर्दशा का जिक्र है। 

अब गरीब किरदारों को लेकर एक पिछड़े इलाके के सेट पर भारत की कुरीतियों को मिलाकर उसे धीरे - धीरे क्लोज अप शॉट पर पकाते रहो और बीच - बीच में गलियों का संवाद चलाते रहो और एक उबाल आने पर आपकी फिल्म तैयार है। जिसे १०० % विदेशी लोग पसंद करेंगे। कुछ लोग आपको भारत की इस डार्क तस्वीर को दिखाने के लिए आपको देशद्रोही करार दे देंगे। लेकिन उनकी प्रवाह किये बिना, आप ऐसी ही दूसरी कहानी की तलाश में लग जाइये। 

टिप्पणियाँ

  1. भाई चोरी की स्क्रिप्ट से न हो पायेगा कुछ अपनी तरफ से भी लिखा करो.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें