​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - भीग गए हो तुम, अब बारिश से क्या डरना।

बेटा मैं यहाँ बहुत खुश हूँ,
तुम भी वहाँ खुश रहना,
सत्य के पथ पर चलना,
असत्य से लड़ते रहना,
भीग गए हो तुम,
अब बारिश से क्या डरना।

संकट मिलेंगे तुमको,
विपदाओं से लड़ते रहना,
विजय पताका देर से सही,
आकाश में लहराते रहना,
भीग गए हो तुम,
अब बारिश से क्या डरना।

मिलेंगे दुश्मन बनकर दोस्त,
कपट करेंगे, छलेंगे तुमको,
डगमग और पथविचलित होकर भी, 
आगे बढ़ते रहना,
भीग गए हो तुम,
अब बारिश से क्या डरना।

सत्य बुलायेगा तुम्हें,
असत्य पथ भ्रमित करेगा,
लोग कहेंगे पीछे हटने को,
तुम मन की सुनकर चलते रहना,
भीग गए हो तुम,
अब बारिश से क्या डरना।

4 टिप्‍पणियां:

  1. आकाश में लहराते रहना,
    भीग गए हो तुम,
    अब बारिश से क्या डरना।
    ये पंक्तिया ख़ास तौर पर पसन्द आई ..... अच्छी रचना ..पढ़कर अच्छा लगा ..

    उत्तर देंहटाएं