​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#हास्य - गांधी जी का हिटलर को पत्र

15 अगस्त 1939
एडॅाल्फ हिटलर, 
बर्लिन, जर्मनी। 
पिन - 890567
प्रिय मित्र हिटलर,
मेरे कुछ सहयोगियों ने बताया कि आप सुभाष चंद्र बोस की भारत को स्वतंत्रता दिलवाने में मदद कर रहें हैं । आपकी मदद से सुभाष भारत में अंग्रेजी सेना के साथ युद्ध करके भारत को स्वाधीन बनाना चाहता है।
मित्र हिटलर यदि तुम्हें लगता है कि मैं और कांग्रेस इतने साल से यहाँ घास छिल रहें हैं तो तुम्हारा यह सोचना गलत है। हम भी भारत की आजादी के लिए प्रयत्न कर रहें हैं और भारत को आजाद कराकर रहेंगे।
कुछ साल  पहले हिंसक संघर्ष में भाग लेने वाले भगत सिंह को अंग्रेजी सरकार ने फांसी पर चढ़ा दिया। मैं चाहता तो उसे बचा सकता था परंतु उसे बचाने पर मुझे महात्मा कहने वाले मेरा अनुसरण करने वाले भगत सिंह का अनुसरण करना आरंभ कर सकते थे, इसलिए भगत सिंह को बचाना मैंने उचित नहीं समझा।
मैं आपसे प्रार्थना करता हूँ कि आप सुभाष चंद्र बोस को किसी भी प्रकार की सुविधा उपलब्ध नहीं करवाएंगे। सुभाष को उसके हाल पर भटकने के लिए छोड़ दीजिए। मैं नहीं चाहता कि भारत की स्वतंत्रता का श्रेय मेरे अलावा किसी दूसरे व्यक्ति को भी मिलें।
आपका प्यार मित्र,
मोहनदास करमचंद गांधी,
मुंबई, भारत।

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जी की 120वीं जयंती और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अच्छा article है। .... Thanks for sharing this!! :)

    उत्तर देंहटाएं