​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#हास्य - हिरण ने लिखा सलमान को पत्र, कहा "भाई थैंक यू वैरी मच"

एक सनसनी खेज खबर के अनुसार सलमान खान को चिंकारा हिरण की हत्या मामले से रिहाई मिलने के बाद, उस हिरण ने स्वर्ग लोक से सलमान को पत्र लिखा है। हिरण का पत्र कुछ इस तरह है।
प्यारे सलमान भाई,
मुझे मोक्ष देने के लिए आपका बहुत - बहुत धन्यवाद। यदि आपके ऊपर मेरी हत्या का इल्जाम नहीं लगता तो शायद से यमलोक में भी यमराज मुझे नर्क लोक में भेज देते परंतु जब उन्हें पता चला कि मुझे मारने का दोष सलमान खान पर लगा है तो उन्होंने मुझे अपने बगल वाले कमरे में रहने की जगह दे दी है और रोज सुबह मुझसे मिलने आते हैं। 
स्वर्ग लोक में पहुंचने के बाद, मैं वहाँ का एक सेलेब्रिटी हिरण बन गया हूँ, यहाँ तक की शेर और बाघ भी मेरे सामने सर झुकाते हैं। स्वर्ग लोक के बड़े - बड़े लोग मुझसे मिलने आते हैं और मेरे साथ सेल्फी लेते हैं। मैंने यहाँ पर अपना एक एजेन्ट भी रख लिया है जो मेरे साथ सेल्फी लेने के लिए लोगों को समय देता है और बदले में पैसा लेता है।
मैं अब स्वर्ग लोक में बहुत मशहूर हूँ। आप मेरी ताकत का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि मैंने अब दूसरे हिरणों को अपने ब्रैंड "बिइन्ग हिरण" के तहत लॅान्च करना शुरू कर दिया है। मैं स्वयं अब यमलोक के चैनल पर एक एपिसोड करने का तीन करोड़ रुपया लेता हूँ। बड़े - बड़े निर्माता और निर्देशक मुझे अपनी फिल्म में लेना चाहते हैं लेकिन मैं अब स्वयं निर्माता बन गया हूँ और अपनी फिल्म बनाने लगा हूँ। हाल ही में मेरी फिल्म "एक था हिरण" ने दो सौ करोड़ का कारोबार किया है।
सलमान भाई यदि आप पर उस दिन मेरे शिकार करने का इल्जाम ना लगता तो मैं कभी सफलता के इस मुकाम पर नहीं पहुँच पाता। एक दिन कोई सड़कछाप शिकारी आकर मुझे मार देता और मेरी आत्मा के साथ वही व्यवहार होता जो अन्य सामान्य लोगों के साथ होता है।
भाई जब आप पर मुझे मारने का दोष लगा था तब मैं आपके ऊपर बहुत गुस्सा था परंतु आज स्वर्ग लोक में अपनी सफलता देखकर मुझे सिर्फ इतना कहना है, "मुझे मारने का दोष अपने ऊपर लेने के लिए आपका धन्यवाद। जिस तरह बिना दोष के आप समय - समय मेरा प्रचार करने के लिए जेल और न्यायालय जाते रहें हैं उसका उपकार मैं कभी नहीं भूलूंगा और भारत सरकार से आपके लिए भारतरत्न देने का निवेदन करूँगा।"

टिप्पणियाँ

  1. बहुत ही रोचक और सटीक व्यंग्य

    उत्तर देंहटाएं
  2. खामख्वाह ही इतने दिन लटका के रखा रहता है .....
    ईश्वर मृत हिरण की आत्मा को शांति प्रदान करे और मोक्ष दाता को भारत रत्न....

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें