​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - सत्य बड़ा बिगड़ैल है

चला है सत्य दौड़ लगाने,
असत्य से फिर हार जाएगा,

पिछली बार जो गिरा था मुँह के बल,
सत्य उस हार को भूल गया,
उसे जिस तरह रौंदा था असत्य ने,
सत्य उस मार को भूल गया,

क्यों भूल जाता है सत्य,
दिन उसके कब के लद गए,
असत्य ने जो वादे किये,
वो सत्य से आगे बढ़ गए,

सत्य समझाने पर नहीं मानेगा,
सत्य पुनः दौड़ लगाएगा,
सत्य पुनः मूकी खाएगा,
सत्य पुनः धूमिल होकर कराहेगा,
सत्य पुनः पराजित होकर,
सत्य के पथ पर जाएगा,

सत्य बड़ा बिगड़ैल है,
उठकर फिर - फिर से लड़ने जाएगा।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें