​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - आज एक नए सफर पर निकलना हैं


आज एक नए सफर पर निकलना हैं,

आज फिर कुछ अपने पीछे छूट जाएंगे,

वो पान वाला बनवारी,
कितने प्यार से 
कत्थे और चूने को मिलकर पाना बनाता था।

चाय की दुकान पर घंटों बैठे रहना,
वहाँ जो चाचा जी एक आते थे,
अपनी बहु की बहुत बुराइयाँ बतियाते थे।

कुछ पेड़ भी नाराज हैं,
जिनके नीचे बैठकर मैं लिखता था,
उन्हें अब कौन नई नज्में सुनाएगा।

वो शर्मा नाई,
जो हर बार खत गलत कर देता था,
जाने के नाम पर उसकी आँखें डब डबा गई।

​​
वो मंदिर, वो गिरजाघर, वो मस्जिद की दीवारें,
वो मंदिर, वो गिरजाघर, वो मस्जिद की दीवारें,
बहुत खुश होंगी,
आपस में बतियाती थी,
जाने किस धर्म का नास्तिक है,
कभी हमारी तरफ रुख नहीं करता।

शायद आप मेरे रिश्तों का जिक्र ढूंढ रहें होंगे,
उन्हें तो उस दिन ही अलविदा कहा दिया था,
जिस दिन सफर का समान बांधा था। 

आज एक नए सफर पर निकलना हैं,
आज फिर कुछ अपने पीछे छूट जाएंगे,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें