​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - रेल के पत्थर

एक रेल गुजर रही थी,
पटरी के पत्थर कांप रहें थे।

रेल गुजरने के बाद खुश थे पत्थर सारे,
गम के बीतने की खुशियाँ मना रहें थे,
तभी दूर एक और रेल के आने की आहट मिली,
पत्थर फिर कांपने लगे डर से,
रेल फिर गुजरी उन्हें बिखरा दिया,
सुबह कुछ लोगों ने फावड़े से खींचकर,
उन पत्थरों को फिर पटरी की तरफ ढकेल दिया।

पत्थर फिर रेल के इंतजार में हैं,
एक दिन वो फूटकर धूल में मिल जायेंगे,
इस हवा से पैदा हुए,
इस हवा में फिर मिल जायेंगे।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें