​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - सतह पर पनपती काई

सतह पर पनपती काई भी 
अब डर रही है, 
सूरज ज्यों ज्यों बढ़ेगा 
उसका वजूद खत्म होगा,

पनपती काई के नीचे 
कुछ जलचरों का आशियाँ था,
उनके घर की फिक्र भी 
अब बढ़ने लगी है,

चमकता सुरजा 
जो खुशियों को लेकर आता है,
काई के जीवन में तो 
बस दुख भर देगा,

अभी तो कुछ दिन पहले ही,
संजोया था घर उसने अपना,
बड़ी जतन से ताना था
कुछ सुनहरी यादों को छत पर।

बरसात ने खूब भिगाया उसे,
ढकेला कई बार यहाँ से वहाँ,
काई ने छोड़ा नही
संघर्ष जीवन का।

ठंड के दिन अच्छे गुजरें,
जलचर भी
उसे तैराते
रोज नये नग्में सुनाते।

लेकिन

सतह पर पनपती काई भी 
अब डर रही है, 
सूरज ज्यों ज्यों बढ़ेगा 
उसका वजूद खत्म होगा,

टिप्पणियाँ