​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - तोड़ दो बंधन

तोड़ दो बंधन,
स्वच्छंद हो
बह चलो मेरे साथ,
एक तराना गायेंगे,
एक फसाना बनाएंगे,
तोड़ दो बंधन।

तोड़ दो बंधन,
सोचो ना अंजाम,
एक डोर को छोड़,
पतंग बन जाएंगे,
भले न हो मंजिल का पता,
हवा में उड़ते जायेंगे,
तोड़ दो बंधन।

तोड़ दो बंधन,
तो रंग नया होगा,
उमंग नया होगा,
जीवन नया होगा,
ना डर हार का होगा,
ना गम ना जीत पाने का ,
तोड़ दो बंधन।

2 टिप्‍पणियां: