​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#​कविता ​- दरख़्तों ने भी अब विद्रोह किया

दरख़्तों ने भी अब विद्रोह किया है,
कब तक धूँआ फूँककर फेफड़े जलाएंगे।

जब तुम्हें फिक्र नही है अपनी,
हम कब तक दमे का मर्ज सहते जाएंगे।

लगते थे कुछ फल हमपर,
अब वो भी बेमौसम गिरते जाएंगे।

यदि ना बदली अपनी रोजमर्रा की आदत,
हम भी सूखकर एक दिन मर जाएंगे।

कुछ फिर पनपने की कोशिश करेंगे,
कुछ पनपते ही कुर्बान हो जाएंगे।

ताकीद कर रहें तुमसे संभल जाओ,
हम कब तक अपने फेफड़े जलाएंगे।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें