​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - लिखते गए यादों को

लिखते गए यादों को
एक कोरे पन्ने पर,
पलट कर देखा
कुछ भी लिखा नही था।

दोष किसका है,
उस कलम का जिसने लिखा नही,
या स्याही जो कोरे रंग की थी।

शायद खयाल भी दोषी होंगे,
बड़े हल्के और बारीक थे,
कुछ 
गाढ़े होते तो
कोरी स्याही से भी छप जाते।

उस नीब को क्या कहना,
जिसका चलना दुसवार था,
खरोंच तो सकती थी,
कुछ शब्दों को पन्ने पर।

अब इन कोरे कागजों को,
दफनाने का जुर्म करना है,
शायद जाग जाए,
कब्र के अंधेरे में,
जैसे उस दिन सियाह रात में 
आकर छू गए थे।

लिखते गए यादों को
एक कोरे पन्ने पर,
पलट कर देखा
कुछ भी लिखा नही था।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें