​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे




















बॉम्बे जिस वक्त मुंबई में बदल रहा था उस समय बॉम्बे की गलियों में कई परिवर्तन हो रहे थे। कबीर की कहानी बॉम्बे के ऐसे ही एक लड़के की कहानी है। जिसने मुंबई के नाम के साथ अपना काम भी बदल लिया। मुंबई की गलियों को तोड़कर उनके गलियारों में बड़ी बड़ी इमारते खड़ी होने लगी और उसके साथ ही मुंबई का रंग रूप बदल गया। मुंबई और कबीर के उसी रूप को यहाँ एक लघु उपन्यास के जरिए पेश करने की कोशिश कर रहा हूँ। 



#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 1 (ड्रामा)
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 2 (ड्रामा)
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 3 (ड्रामा)
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 4 (ड्रामा)
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 5 (ड्रामा)
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 6 #ड्रामा
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 7 #ड्रामा
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 8 #ड्रामा
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 9 #ड्रामा
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 10 #ड्रामा
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 11 #ड्रामा
#ब्वॅाय_फ्रॅाम_बॅाम्बे - 12 #ड्रामा


इस कहानी पे अपनी टिपण्णी हमें जरूर लिखें.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें