​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

आदर्श लिबरल की कथा

​‘लिबरल ’ उसने उपनाम रखा था। खूब पढ़ा-लिखा युवक। स्वस्थ, सुंदर। नौकरी भी अच्छी। विद्रोही। मार्क्स-लेनिन के उद्धरण देता, चे-ग्वेवारा का खास भक्त। गाँधी जी की पूजा करता और भगत सिंह को आतंकवादी समझता था। कॉफी हाउस में काफी देर तक बैठता। खूब बातें करता। हमेशा लिबरलपन के तनाव में रहता। सब उलट-पुलट देना है। सब बदल देना है। बाल बड़े, दाड़ी करीने से बढ़ाई हुई। विद्रोह की घोषणा करता। कुछ करने का मौका ढूंढ़ता। कहता- “मेरे पिता की पीढ़ी को जल्दी मरना चाहिए। मेरे पिता घोर दकियानूस, जातिवादी, प्रतिक्रियावादी हैं। ठेठ बुर्जुआ। जब वे मरेंगे तब मैं न मुंडन कराऊंगा,  उनका श्राद्ध करूंगा। मैं सब परंपराओं का नाश कर दूंगा। चे-ग्वेवारा जिंदाबाद।” आदर्श लिबरल भगत सिंह के कफिलफ है लेकिन चे-ग्वेवारा के गुण गाते रहता है। आदर्श लिबरल यदि विदेशी हाथो से घास की रोटी खा ले तो उसकी तारीफ भी एक महीने तक करेंगे परन्तु इन्हे देसी महीन गेहूँ के आटे की रोटी बिलकुल पसंद नहीं आती। 

कोई साथी कहता, “पर तुम्हारे पिता तुम्हें बहुत प्यार करते हैं।”

लिबरल कहता, “प्यारहॉंहर बुर्जुआ लिबरल को मारने के लिए प्यार करता है। यह प्यार षणयंत्र है। तुम लोग नहीं समझते। इस समय मेरा बाप किसी ब्राह्मण की तलाश में है जिससे बीस-पच्चीस हजार रुपये लेकर उसकी लड़की से मेरी शादी कर देगा। पर मैं नहीं होने दूंगा। मैं जाति में शादी करूंगा ही नहीं। मैं दूसरी जाति कीकिसी नीच जाति की लड़की से शादी करूंगा। मेरा बाप सिर धुनता बैठा रहेगा।” और हा अगर दहेज़ लेकर शादी करनी है तो मैं दहेज़ प्प्रथा के खिलाफ हूँ लेकिन मुझे शादी में एक मोटरकार जरूर चाहिए। 

साथी ने कहा, “अगर तुम्हारा प्यार किसी लड़की से हो जाए और संयोग से वह ब्राह्मण हो तो तुम शादी करोगे न?”

उसने कहा, “हरगिज नहीं। मैं उसे छोड़ दूंगा। कोई लिबरल अपनी जाति की लड़की से न प्यार करता हैन शादी। मेरा प्यार है एक कायस्थ लड़की से। मैं उससे शादी करूंगा।”

एक दिन उसने कायस्थ लड़की से कोर्ट में शादी कर ली। उसे लेकर अपने शहर आया और दोस्त के घर पर ठहर गया।

बड़े शहीदाना मूड में था। कह रहा था, “आई ब्रोक देअर नेक। मेरा बाप इस समय सिर धुन रहा होगामां रो रही होगी। मुहल्ले-पड़ोस के लोगों को इकट्ठा करके मेरा बाप कह रहा होगा ‘हमारे लिए लड़का मर चुका’। वह मुझे त्याग देगा। मुझे प्रापर्टी से वंचित कर देगा। आई डोंट केअर। मैं कोई भी बलिदान करने को तैयार हूं। वह घर मेरे लिए दुश्मन का घर हो गया। बट आई विल फाइट टू दी एंड-टू दी एंड।”

वह बरामदे में तना हुआ घूमता। फिर बैठ जाताकहता, “बस संघर्ष आ ही रहा है।”

उसका एक दोस्त आया। बोला, “तुम्हारे फादर कह रहे थे कि तुम पत्नी को लेकर सीधे घर क्यों नहीं आए। वे तो काफी शांत थे। कह रहे थेलड़के और बहू को घर ले आओ।”

वह उत्तेजित हो गया, “हूँबुर्जुआ हिपोक्रेसी। यह एक षणयंत्र है। वे मुझे घर बुलाकर फिर अपमान करकेहल्ला करकेनिकालेंगे। उन्होंने मुझे त्याग दिया है तो मैं क्यों समझौता करूं। मैं दो कमरे किराए पर लेकर रहूंगा।”

दोस्त ने कहा, “पर तुम्हें त्यागा कहां है?”

उसने कहा, “मैं सब जानता हूं- आई विल फाइट।”

दोस्त ने कहा, “जब लड़ाई है ही नहीं तो फाइट क्या करोगे?”

लिबरल कल्पनाओं में था। हथियार पैने कर रहा था। बारूद सुखा रहा था। क्रांति का निर्णायक क्षण आने वाला है। मैं वीरता से लडूंगा। बलिदान हो जाऊंगा।

तीसरे दिन उसका एक खास दोस्त आया। उसने कहा, “तुम्हारे माता-पिता टैक्सी लेकर तुम्हें लेने आ रहे हैं। इतवार को तुम्हारी शादी के उपलक्ष्य में भोज है। यह निमंत्रण-पत्र बांटा जा रहा है।”

लिबरल ने सर ठोंक लिया। पसीना बहने लगा। पीला हो गया। बोला, “हायसब खत्म हो गया। जिंदगी भर की संघर्ष-साधना खत्म हो गयी। नो स्ट्रगल। नो रेवोल्यूशन। मैं हार गया। वे मुझे लेने आ रहे है। मैं लड़ना चाहता था। मेरे लिबरल विचारधारा का क्या होगा! लोग समझेंगे की मै अपने बाप का भी विरोध ना कर पाया! देवीतू मेरे बाप से मेरा तिरस्कार करवा। चे-ग्वेवारा! डियर चे!”

उसकी पत्नी चतुर थी। वह दो-तीन दिनों से लिबरल की हरकते देख रही थी और हंस रही थी। उसने कहा, “डियर एक बात कहूं। तुम लिबरल नहीं हो।”

उसने पूछा, “नहीं हूं। फिर क्या हूं?”

पत्नी ने कहा, “तुम एक बुर्जुआ बौड़म हो। पर मैं तुम्हें प्यार करती हूँ।”

नोट - यह रचना हरिशंकर परसाई के व्यंग्य "क्रांतिकारी की कथा" पर आधारित है 
अगले सोमवार फिर मिलेंगे एक नई रचना के साथ।  आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए भारतरत्न है तो जरूर देना। 

टिप्पणियाँ

  1. हहहहहाहा.......भाई गजब.........बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज कल फुल फॉर्म में हैं हज़ूर … कह के ले रहे हैं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. परसाई जी ने लिख छोड़ा था पहले ही - उनकी दूरदृष्टि ने आदर्श लिबरल को पहले ही देख लिया था

      हटाएं
  3. बढ़िया ! मैंने हरिशंकर परसाई को कभी पढ़ा नहीं लेकिन इस लेख के चलते उनके बारे में और जानने और समझने के लिए उत्सुक करता है आपका ये ब्लॉग पोस्ट ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पढ़ना परसाई जी को आपको सत्य से कई बार रूबरू होने का मौका मिलेगा

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें