​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - वो जो एस्ट्रोनॅाट चांद से आए हैं

जब आप किसी से प्यार करते है तो उस व्यक्ति के बारे में कोई लाख बुराई कर ले आप उसे मानने को तैयार नहीं होते है। इस बात को एक वाकिये के तौर पर पेश कर रहा हूं। 









वो जो एस्ट्रोनॅाट
चांद से आए हैं,
पता नही कहा से 
झूठी तस्वीरें लाए हैं,

कोई बता दो उनको 
कोई बता दो उनको 
मेरा चांद कैसा दिखता है,
कभी देखना पूनम की रात में,
एक धुंधली धुंधली सी
छवि नजर आएगी,
जैसे कोई बच्चा मां
से लिपटा हो।
वो जो एस्ट्रोनॅाट
चांद से आए हैं,
पता नही कहा से 
झूठी तस्वीरें लाए हैं,

कहते हैं चांद मरुस्थल हैं,
अरे मैंने तो कई रातें
चाँद के पानी से 
पीकर गुजार दी,
एक रात बाढ़ आ गई
चांद पर,
सुबह गीला तकिया
मैं ने धूप में सूखाया था,
वो जो एस्ट्रोनॅाट
चांद से आए हैं,
पता नही कहा से 
झूठी तस्वीरें लाए हैं,

चांद की बदलती
चांदनी से कई दिल जुड़े हैं,
वो चांद की अठखेलियों को 
कोई विज्ञान बताते हैं,
कहते हैं एक उपग्रह है
अरे हम तो बचपन 
से मामा कहते हैं,
वो जो एस्ट्रोनॅाट
चांद से आए हैं,
पता नही कहा से 
झूठी तस्वीरें लाए हैं,

वो जो शरमा के
पल भर के लिए
छुप जाता है,
उसे ए चंद्र पर
ग्रहण कहते हैं,
उन्हें क्या पता
कैसे गुजारता हूं मैं
अमावस की रातें
बिना उसके,
वो जो एस्ट्रोनॅाट
चांद से आए हैं,
पता नही कहा से 
झूठी तस्वीरें लाए हैं,

मुझे लगता किसी
गलत पते पर चले गए थे,
ए एस्ट्रोनॅाट,
और
चांद से है
इनकी पुरानी दुश्मनी 
इसलिए सारा दोष चांद को देते हैं,
वो जो एस्ट्रोनॅाट
चांद से आए हैं,
पता नही कहा से 
झूठी तस्वीरें लाए हैं,

वो जो एस्ट्रोनॅाट
चांद से आए हैं,
पता नही कहा से 
झूठी तस्वीरें लाए हैं,

टिप्पणियाँ

  1. यान जरूर गलत ट्रेजेक्ट्री पर चला गया रहा होगा। इंजन के सॉफ्टवेयर में कविता नहीं रही होगी। नासा मेँ कवि नहीं हैं शायद।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कुछ भी हो सकता है सर, फ़िलहाल ये सही है की एक बार जो हमें पसंद आ गया तो लाख लोगो के बुराई बाने पर भी हमें उसमे कुछ बुरा नहीं दीखता

      हटाएं
  2. बहुत बढिया लिखा है बंधु। विज्ञान कहाँ समझता है भावनाएँ और न ही भावनाओं को विज्ञान से कोई मतलब।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी, और हम भी अब धीरे धीरे भावनाओं से मतलब रखना छोड़ रहे हैं

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर.हम कई बार किसी विषय में काल्पनिक छवि बना लेते है और जब हकीकत से सबका पड़ता है तो मायूसी होती है.
    नई पोस्ट : क्यों वादे करते हैं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. और कई बार हम उस काल्पनिक छवि को छोड़ना भी नहीं चाहते हैं

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. धन्यवाद - आते रहिये ऐसे ही नया पढने को मिलता रहेगा

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. धन्यवाद - आते रहिये ऐसे ही नया पढने को मिलता रहेगा

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें