​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

आर के लक्ष्मण जी का स्वर्ग में स्वागत

यमराज के दरबार में आर के लक्ष्मण जी के पहुंचते ही सभी लोग अपनी जगह से खड़े होकर तालियाँ बजाने लगे। यमराज ने दौड़कर  के आर के लक्ष्मण का स्वागत किया और उन्हें गले से लगा लिया। आर के लक्ष्मण पर चारों तरफ से फूलों की वर्षा होने लगी।

आर के लक्ष्मण को यमराज ने अपने साथ बिठाया और कहा आर के लक्ष्मण जी हमारा आप से अनुरोध है कि स्वर्ग लोक में जाने से पहल कृपया एक सप्ताह हमारे यम लोक में बिताए और पृथ्वी लोक  पर बने सभी कार्टूनो को हमें एक एक करके दिखाएँ, हमने काफी बार धरती लोक से आने वाले लोग से आपकी बहुत तारीफ सुनी हैं।

आर के लक्ष्मण जी ने एक एक करके अपने सभी कार्टून यमराज को दिखाना शुरू किया और उनका सार समझाना शुरू किया । कुछ कार्टूनो को देखकर यमराज खुश हो गए और कुछ कार्टूनो को देखकर यमराज भी दुखी हो गए। सुना है तीनों लोको के देवता भी आर के लक्ष्मण जी से मिलना चाहतें है।

आर के लक्ष्मण जी को पृथ्वी लोक पर कभी काल आकर आम आदमी की समस्या को देखकर स्वर्ग लोक के अखबार में कार्टून बनाने के लिए कहा गया है, इसलिए आर के लक्ष्मण जी हमेशा हर व्यंग्यकार और लोगों का भला करनेवालों में जीवित रहेंगे। उनके कार्टून हमेशा हमें गुदगुदाते रहेंगे और सोचने पर मजबूर करते रहेंगे।

इस लेख के लिए मंजुल जी ने अपना कार्टून दिया है इसके लिए पुरानी बस्ती उनका आभार व्यक्त करती है

अगले सोमवार फिर मिलेंगे एक नए व्यंग्य के साथ।

टिप्पणियाँ

  1. हमारे बीच 'एक आम आदमी' नहीं रहा भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे ~ एक ट्वीट______

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    अभी एक सप्ताह पहले अपने एक पोस्ट 'लोकतंत्र बनाम कार्टूनतंत्र' में लक्ष्मण के कार्टून का प्रयोग किया था.
    ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आर के लक्ष्‍मण ने अपना काम किया और पूरी शिद्दत के साथ किया। उन्‍हें सम्‍मान के साथ भावपूर्ण विदाई।

    समय बदलेगा, लेकिन तीन पीढि़यों के दिल में उनका आम आदमी जिंदा रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बार बार वही कहना अच्छा नहीं लगता , पर क्या करूँ शब्दों की कमी की वजह से हर बार वही चीज़ें कहनी पड़ती हैं.... बहुत ही उम्दा और बेहतरीन लेख , दिल खुश हो गया पढ़कर.... हाहा आपको जान कर ख़ुशी होगी अब तो मेरे दोस्त भी आपके व्यंग लेख के फेन हो गए हैं।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें